Baras jate hain badal jamin ko chhune ke liye

Baras jate hain badal jamin ko chhune ke liye- Sad shayari, Hindi shayari, Love shayari

बरस जाते हैं बादल जमीं को छूने के लिए,
हर कोई कुछ खोता है कुछ पाने के लिए,
खोने का दर्द भी कम पर जाता है यारों,
जब कोई रोता है किसी को पाने के लिए |

Baras jate hain badal jamin ko chhune ke liye,
Har koi kuchh khota ahi kuchh pane ke liye,
Khone ka dard bhi kam par jata hai yaaro,
Jab koi rota hai kisi ko paane ke liye.

Leave a Comment