Faaslo mein wo humse door hai

Faaslo mein wo humse door hai- Miss you shayari, Hindi shayari

फासलों में वो हमसे दूर है,
पर वो मेरी निगाहों के करीब है,
सोचते है ना याद आये वो इतना,
पर क्या करें इस दिल से मजबूर हैं |

Faaslo mein wo humse door hai,
Par wo meri nigahon ke karib hai,
Sochte hai na yaad aaye wo itna,
Par kya kare is dil se majbur hai.

Leave a Comment