Jindgi chahat ka silsila hai

Jindgi chahat ka silsila hai- Sad shayari, Love shayari, Hindi shayari

जिंदगी चाहत का सिलसिला है,
कोई मिल जाता है कोई बिछड़ जाता है,
जिसे मांगते हैं हम अपनी दुआओं में उम्र भर,
वो ही किसी और को बिना मांगे मिल जाता है |

Jindgi chahat ka silsila hai,
Koi mil jata hai koi bichhar jata hai,
Jise mangte hain hum apni duaon mein umr bhar,
Wo hi kisi aur ko bina mange mil jata hai.

Leave a Comment