Khaamoshi uski mujh par barasti hai

Khaamoshi uski mujh par barasti hai- I miss you shayari, Sad shayari

खामोशी उसकी मुझ पर बरसती है,
मेरी हर आह उसका दर्द समझती है,
मालुम है की मजबूर है वो,
फिर भी मेरी नजर उसके दीदार को तरसती है |

Khaamoshi uski mujh par barasti hai,
Meri har aah uska dard samajhti hai,
Maalum hai ki majbur hai wo,
Phir bhi meri najar uske didar ko tarasti hai.

Leave a Comment