Koi anjan jab apna ban jata hai

Koi anjan jab apna ban jata hai- Miss you shayari, Hindi shayari

कोई अंजान जब अपना बन जाता है,
ना जाने क्यों वो बहुत याद आता है,
लाख भुलाना चाहो उस चेहरे को,
मगर चेहरा उसका हर चीज में नजर आता है |

Koi anjan jab apna ban jata hai,
Na jane kyun wo bahut yaad aata hai,
Lakh bhulana chaho us chehre ko,
Magar chehra uska har chij mein najar aata hai.

Leave a Comment