Log apna bana ke chhor dete hain

Log apna bana ke chhor dete hain- Sad shayari

लोग अपना बना के छोर देते हैं,
अपनों से रिस्ता तोर के गैरों से जोर देते हैं,
हम तो एक फूल नहीं तोर सकते,
ना जाने लोग दिल कैसे तोर देते हैं |

Log apna bana ke chhor dete hain,
Apno se rista tor ke gairon se jor dete hain,
Hum to ek phool nahi tor sakte,
Naa jane log dil kaise tor dete hain.

Leave a Comment