Mai ek gunah har bar kyun karti hun

Mai ek gunah har bar kyun karti hun- Sad shayari, Love shayari, Hindi shayari

मैं एक गुनाह हर बार क्यों करती हूँ,
हर सजदे में उसे ही याद क्यों करती हूँ,
या अल्लाह अगर वो बना ही नहीं मेरे लिए,
तो मैं उसे इतना प्यार क्यों करती हूँ |

Mai ek gunah har bar kyun karti hun,
Har sajde mein use hi yaad kyun karti hun,
Ya allah agar wo bana hi nahi mere liye,
To mai use itna pyar kyun karti hun.

Leave a Comment