Naa jane kyun aankhon mein nami si rahti hai

Naa jane kyun aankhon mein nami si rahti hai- Sad shayari

ना जाने क्यों आँखों में नमी सी रहती है,
लाखों की भीर में कमी सी रहती है,
हमने तो हमेसा यही चाहा है की हमसे कोई ना रूठे,
फिर भी सबको शिकायत हमी से रहती है |

Naa jane kyun aankhon mein nami si rahti hai,
Laakhon ki bheer mein kami si rahti hai,
Humne to hamesa yahi chaha hai ki humse koi na ruthe,
Phir bhi sabko shikayat hami se rahti hai.

Leave a Comment