Phool gir sakte hain par khushbu nahi

Phool gir sakte hain par khushbu nahi- Love shayari, Hindi shayari

फूल गिर सकते हैं पर खुशबु नहीं,
चाँद डूब सकता है पर तारें नहीं,
नदी सुख सकती है पर सागर नहीं,
आपको दुनिया भूल सकती है पर हम नहीं |

Phool gir sakte hain par khushbu nahi,
Chand doob sakta hai par taarein nahi,
Nadi sukh sakti hai par sagar nahi,
Aapko duniya bhul sakti hai par hum nahi.

Leave a Comment