Sar jhukane ki aadat nahi hai

Sar jhukane ki aadat nahi hai- Sad shayari, Love shayari, Hindi shayari

सर झुकाने की आदत नहीं है,
आंसू बहाने की आदत नहीं है,
हम खो गए तो पछतायेंगे बहुत,
क्योंकि हमें लौट के आने की आदत नहीं है |

Sar jhukane ki aadat nahi hai,
Aansu bahane ki aadat nahi hai,
Hum kho gaye to pachhtayenge bahut,
Kyunki humein laut ke aane ki aadat nahi hai.

Leave a Comment